Yaado Ka Baksha

यादों का बक्सा

hvijadmin Uncategorized 4 Comments

वो बेसमेंट में रखा बक्सा
जिस में तुमको कैद कर रखा था
आज उसे निकाला है

तुम्हारी वो आधी सुलगी सिगरेट
होठों से लगा कर इक कश भरती हूँ
बीते दिनों का धुआँ छा जाता है

तुम्हारी वो अधूरी सी इक नज़्म
उलट पलट कर बार बार पढ़ती हूँ
वस्ल की वो शब का ख़्याल आ जाता है

तुम्हारी वो टूटी घड़ी का इक सटरेप
आँखें आज भी नम हो जाती हैं
टकरार की वो आख़िरी रात याद आ जाती है

ख़ामोशी से फिर उस बक्से को
वापिस वहीं बेसमेंट में रख देती हूँ
तुम्हारी यादों को दफ़न कर देती हूँ

Woh basement mein rakha baksa
Jiss mein tumko qaid kar rakha tha
Aaj usse nikaala hai

Tumhari woh aadhi sulgi cigarette
Hotho’n se laga kar ik kash bharti hoon
Beete dino ka dhuaa’n chhaa jaata hai

Tumhari woh adhuri si ik nazm
Ulat palat kar baar baar padhti hoon
Vasl ki woh shab ka khayaal aa jaata hai

Tumhari woh tooti ghadi ka ik strap
Aankhei’n aaj bhi nam ho jaati hain
Takraar ki woh aakhiri raat yaad aa jaati hai

Khamoshi se phir uss bakse ko
Waapis wahi’n basement mein rakh deti hoon
Tumhari yaado’n ko dafan kar deti hoon

#Nazneen

Comments 4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *